Ras hindi grammar class 10 pdf. Hindi grammar notes (Handwritten) free download in pdf

Ras hindi grammar class 10 pdf Rating: 9,4/10 152 reviews

ras examples in hindi of class 10 hindi grammer

Ras hindi grammar class 10 pdf

करुण रस - प्रिय जनों या वस्तुओं के आहत होने. वैसे व्याकरण में जो कुछ भी महत्वपूर्ण होता है वो सभी Chapters आपको इन Notes में देखनें को मिलेंगे. रस Ras in Hindi Grammar प्राचीन भारतीय साहित्य में रस का महत्वपूर्ण स्थान है।रस - संचार के बिना कोई भी प्रयोजन सिद्ध नहीं हो सकता है।रस एक प्रकार का विशेष आनंद है जो कविता के पठन ,श्रवण अथवा नाटक के अभिनय देखने से दर्शक या पाठक को प्राप्त होता है। जिस प्रकार अनेक व्यजंनों ,औषधियों और द्रव्यों से युक्त होने पर भोजन में एक विशेष स्वाद का अनुभव करते हैं।उसी प्रकार रसिक जन ,अनेक भावों के अभिनय से युक्त स्थायी भावों का आश्वादन करते हैं।यही नाटक की रसानुभुक्ति है।नाना भावों से संयुक्त होने पर स्थायी सामान्य नहीं,वरन विशेष मानसिक आनंद को प्रदान करते हैं।भरत मुनि ने नाट्यशास्त्र में रस के बारे में निम्न लिखा है - तत्रविभावानुभावव्यभिचारिसंयोगाद्रसनिष्पत्तिः।कोदृष्टान्तः।अत्रा-यथाहि नानाव्यञ्जनौषधिद्रव्यसंयोगाद्रसनिष्पत्तिःतथानानाभावोपगमाद्रसनिष्पत्तिः।यथाहि- गुडादिभिर्द्रव्यैर्व्यञ्जनैरौषधिभिश्च षाडवादयो रसा निर्वर्त्यन्ते तथा नानाभावोपगता अपि स्थायिनो भावा रसत्वमाप्नुवन्तीति ।अत्राह - रस इति कः पदार्थः । उच्यते - आस्वाद्यत्वात् । विशेष रूप से जो भावों को प्रकट करते हैं ,वे विभाव हैं।ये कारण रूप होते हैं।स्थायी भाव के प्रकट होने का जो मुख्य कारण होता है ,उसे आलम्बन विभाव कहते हैं।इसका आलम्बन ग्रहण करके ही रस की स्थिति होती हैं। प्रकट हुए स्थायीभाव को और अधिक प्रबुद्ध ,उदीप्त और उत्तेजित करने वाले कारणों को उद्दीपन - विभाव कहते हैं। जो स्थायीभाव के साथ - साथ संचरण करते हैं उन्हें संचारिभाव कहते हैं।इनके द्वारा स्थायीभाव की स्थिति भाव की पुष्टि होती हैं।एक रास के स्थायीभाव के साथ अनेक संचारीभाव आते हैं।इन्हे व्यभिचारीभाव भी कहते हैं ,क्योंकि एक संचारी किसी एक स्थायी भाव या रास के साथ नहीं रहता हैं ,वरन अनेक रसों में देखा जा सकता है जो उसका व्यभिचरण है।जैसे - शंका वियोग श्रृंगार में आती है ,करुण में भी और भयानक में भी। एक संचारी का कोई भी एक स्थायी या रस से सम्बन्ध नहीं ,अतः उसे व्यभिचारी कहा गया है। वाणी और अंगों के अभिनय द्वारा जिनसे अर्थ प्रकट हो ,वे अनुभाव हैं।अनुभावों की कोई निश्चित संख्या नहीं हैं। परन्तु आठ अनुभाव जो सहज है और सात्विक विकारों के रूप में आते हैं ,उन्हें सात्विकभाव कहा जाता है।ये अनायास सहजरूप से प्रकट होते हैं।क्रोध स्थायीभाव को प्रकट करने के लिए मुँह का लाल हो जाना ,दाँत पीसना ,शरीर का काँपना आदि अनुभावों के अन्तर्गत है। वे मुख्य भाव है जो रसत्व को प्राप्त हो सकते हैं।रसरूप में जिनकी परिणति हो सकती हैं वे स्थायी हैं।अन्य भाव क्षणस्थायी है ,जो ३३ संचारी माने गए हैं उनकी स्थिति अधिक देर तक नहीं रहती है ,परन्तु स्थाईभावों की स्थिति काफी हद तक स्थायी रहती हैं।भरतमुनि का मानना था कि जैसे नाक ,कान ,मुँह आदि सब मनुष्यों में समान हुए उनमें से एक ही राजा होता है ,उसी प्रकार इन सबमें आठ की रस की स्थिति प्राप्त हो सकते हैं।अतः जो भी भाव प्रबल और देर तक रहने, वे सभी रसत्व की स्थिति प्राप्त कर सकते हैं। आचार्यों के अनुसार रस के नौ भेद होते हैं - १. जैसे की आप सभी जानते ही हैं की ऐसी परीक्षाओं में Hindi Grammar से बहुत से प्रश्न पूछे जाते हैं. यह मुख्य रूप से युगल प्रेम को दर्शाता है. इसी कारण इसे रसराज की भी संज्ञा दी गयी हैं.

Next

Samas in Hindi Grammar With Example (समास एवं समास के भेद)

Ras hindi grammar class 10 pdf

ये सभी टॉपिक्स आपके प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये बहुत ही उपयोगी बुक है. तो अपने दोस्तों के साथ Facebook और WhatsApp पर share करके उनकी सहायता कर सकते हैं. Post Views: 495 hindi vyakarn notes in pdf हिंदी व्याकरण नोट्स इन पीडीऍफ Hindi grammar notes in pdf, rpsc hindi 1st grade notes, 2nd grade hindi notes , reet 3rd grade hindi notes in pdf. हमें आशा है ये आप सभी के लिए उपयोगी साबित होगी. हानि आदि भावों को करुण रस प्रकट करता हैं.

Next

hindi vyakarn notes in pdf हिंदी व्याकरण नोट्स इन पीडीऍफ

Ras hindi grammar class 10 pdf

श्रृंगार रस - नायक - नायिका के प्रेम को दिखाने के लिए श्रृंगार रस का प्रयोग किया जाता हैं. रचना के आधार पर वाक्य भेद बताओ १ जब असफल हो गए तो शोक करना व्यर्थ है क संयुक्त ख सरल ग मिश्र घ आज्ञावाचक २ सूर्य उगा और अंधेरा नष्ट हुआ क संयुक्त ख संकेत वाचक ग विधान वाचक घ मिश्र ३ संकट आ जाए तो घबराना उचित नहीं क संयुक्त ख सरल ग मिश्र घ आज्ञार्थक ४ जब तक विन्ध्वंस नहीं होता तब तक नव-निर्माण नहीं हो सकता क संयुक्त ख सरल ग मिश्रित घ तीनों में से कोई नहीं ५ यदि पुस्तक होती तो श्याम अवश्य पढ़ता क सरल ख संयुक्त ग संकेत वाचक घ मिश्रित ६ परिवार की शोभा वही बढ़ा सकता है, जो सबका चहेता हो क इच्छावाचक ख सरल ग मिश्रित घ संयुक्त ७ जो पक्षी आकाश में विचरण करते हैं वे बड़े भले लगते हैं क मिश्रित ख सरल ग संयुक्त घ विस्मयादिबोधक ८ मैंने उसे पढ़ाया और नौकरी दिलाई क सरल ख संयुक्त ग मिश्रित घ आज्ञावाचक ९ जैसे ही चाँद निकला, वैसे ही अंधकार दूर हो गया क समुच्चयबोधक ख सरल ग संयुक्त घ मिश्रित १० जो परिश्रम करते हैं वे विद्यार्थी सदा सफल होते हैं क संयुक्त ख संकेतवाचक ग मिश्रित घ सरल उत्तर: १: ग मिश्र २: क संयुक्त ३: ग मिश्र ४: ग मिश्रित ५: घ मिश्रित ६: ग मिश्रित ७: क मिश्रित ८: ख संयुक्त ९: घ मिश्रित १०: ग मिश्रित 235 223 171 168 157 157 116 91 89 77 72 65 61 59 58 53 53 51 49 47 47 46 39 38 38 35 33 32 32 32 29 29 28 28 27 26 26 24 23 23 22 22 22 21 21 21 21 19 19 19 18 18 17 17 17 15 15 15 15 14 13 13 12 12 11 10 10 10 10 9 8 8 8 7 7 7 7 7 7 7 6 6 6 6 5 5 5 5 5 4 4 4 4 4 4 4 4 4 3 3 3 3 3 3 3 3 3 2 2 2 2 2 2 2 2 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1 1. यह संसार के सभी प्राणियों में व्याप्त है. काव्य में जो आनंद आता है काव्य रस होता है रस अन्तकरणः की वह शक्ति होती है जिसके कारण मन कल्पना करता है, स्वपन देखता है और काव्य के अनुसार विचरण करने लगता है अर्थात काव्य या कविता साहित्य को पढ़ते समय हमें जिस आनंद व रस कि प्राप्ति होती है उसे रस कहते हैं भरत मुनि ने सर्वप्रथम अपनी कृति नाट्यशास्त्र में रस का प्रयोग किया था परिभाषा :- जब विभाव अनुभाव तथा संचारी भाव से पुष्ट होकर नाम का स्थायी भाव उत्पन्न होता है वह रस कहलाता है रस के भेद समान्यतः रस नौ प्रकार के होते हैं परन्तु वात्सल्य रस को दसवां एवं भक्ति रस को ग्यारहवां रस माना गया हैं : रस एवं उसके स्थायी भाव क्रमश निम्न प्रकार हैं रस स्थायी भाव आसान सी पहचान श्रंगार रस रति स्त्री पुरुष का प्रेम हास्य रस हास, हँसी अंगों या वाणी के विकार से उत्पन्न उल्लास या हँसी वीर रस उत्साह दया, दान और वीरता आदि को प्रकट करने में प्रसन्नता का भाव करुण रस शोक प्रिय के वियोग या हानि के कारण व्याकुलता शांत रस निर्वेद, उदासीनता संसार के प्रति उदासीनता का भाव अदभुत रस विस्मय, आश्चर्य अनोखी वस्तु को देखकर या सुनकर आश्चर्य का भाव भयानक रस भय बड़ा अनिष्ट कर सकने में समर्थ जीव या वस्तु को देखकर उत्पन्न व्याकुलता रौद्र रस क्रोध काम बिगाड़ने वाले को दंड देने वाली मनोवृति वीभत्स रस जुगुप्सा घिनौने पदार्थ को देखकर होने वाली ग्लानि वात्सल्य रस वात्सल्यता, अनुराग संतान के प्रति माता-पिता का प्रेम भाव भक्ति रस देव रति ईश्वर के प्रति प्रेम. . To understand samaas in deep, clear way, all you have to do is practically try to understand them rather trying to remember or simply mug them up. अगर आप हमारी वेबसाइट के नये विजिटर हैं तो हम आपको बता दें कि हम यहाँ हर दिन इसी तरह का स्टडी मटेरियल लेकर आते हैं जो Competitive Exams के लिए उपयोगी होता है.

Next

Hindi grammar notes (Handwritten) free download in pdf

Ras hindi grammar class 10 pdf

तो आप सभी इसको ज़रूर डाउनलोड करे और अपने आने वाले एग्जाम की तैयारी करे. This might help you to make learning samaas in an easy manner. तो इसको लेकर अगर आपका किसी भी प्रकार का सवाल हो तो आप निचे Comment के माध्यम से हमसे पूछ सकते है. इसके साथ ही अगर आप किसी बुक की आवश्यकता है तो उसके बारे में हमें बता सकते हैं हमारी Team उसको उपलब्ध कराने की पूरी कोशिश करेगी. इसके साथ ही हमने इस बुक को डाउनलोड करने की डायरेक्ट लिंक उपलब्ध करा दीजिए जिस पर क्लिक करके आप आसानी से इस बुक को अपने फोन में सेव कर सकते हैं यह बुक प्रत्येक परीक्षाओं के लिए उपयोगी है. . .

Next

[Latest*] Hindi Grammar【हिन्दी व्याकरण】2019 Book PDF Download

Ras hindi grammar class 10 pdf

. . . . . . .

Next

English Grammar Hand written Class Notes : Free Download PDF : SSC CGL, Bank PO/Clerk, CHSL, UPTET, CTET, REET, TET, Teachers Exams

Ras hindi grammar class 10 pdf

. . . . . .

Next

CBSE Papers, Questions, Answers, MCQ ...: CBSE Class 9/10

Ras hindi grammar class 10 pdf

. . . . . .

Next

Hindi Grammar

Ras hindi grammar class 10 pdf

. . . . . . .

Next

हिंदी व्याकरण Hindi Vyakaran free pdf download

Ras hindi grammar class 10 pdf

. . . . .

Next

Hindi grammar full notes (Free Download)

Ras hindi grammar class 10 pdf

. . . . .

Next